Art, Process and imagination…

Artologue will be on yet another long trip in next few months. The plans are in the process but in the meanwhile we want to share something else with you all.

Of course it is about art and the process of art. Artists do not work in void, they are also part and parcel of this mortal world and so their art gets affected by it.

A traditional madhubani painting depicting ten incarnations of God Vishnu

A traditional madhubani painting depicting ten incarnations of God Vishnu

Before Meeankshi decided to paint professionally, she used to create small art pieces for Jey (that’s me). She gifted me a huge Madhubani painting in 2005. It was intricate, traditional Dashavatar (ten incarnations of Lord Vishnu according to Hindu Mythology).

Tutenkhamun and Nefretiti - What else to say

Tutenkhamun and Nefretiti – What else to say

Later when we started our life together, she used to design her own and my clothes and painted my T-shirts other than her Art History classes besides all other chores.

Of course it is Pharoah from egypt but its on a T-shirt.

Of course it is Pharoah from egypt but its on a T-shirt.

Those T-shirts were unique and it defied the usual notion of T-shirt design. We mixed Egyptian Pharoahs, Harrappan Relics and Greek motiffs in the t-shirt but with a twist. These symbols, motiffs and designs were drawn with a Madhubani touch.

an egyptian relic on a Tshirt

an egyptian relic on a Tshirt

(Madhubani paintings are traditional paintings of Mithila region in Bihar which is done on paper with a nib and colors).

In last few years I have’nt got any T-shirts painted as Meenakshi moved from Madhubani to contemporary, modern figurative art and to installations.

Meenakshi drew it for herself on her Kurta

Meenakshi drew it for herself on her Kurta

She is reluctant to share pictures of those paintings on-line but I pursued her to share these T-shirts which even you can order if you like them.

For me these T-shirts are token of love which I am sharing with the community of Artologue.

A tall lady buddha figurine in blue on the yellow T-shirt

A tall lady buddha figurine in blue on the yellow T-shirt

Also many people on social media wanted to know whether Meenakshi does only murals, so this blog will end their query as well.

For me Meenakshi is neither a painter nor a sculptor or designer. She is an artist and she does it all.

As far as I am concerned, I am just growing up with an Artist.

Three lovers in the river. three fishes on a white T-shirt

Three lovers in the river. three fishes on a white T-shirt

Enjoy the pictures and follow me for artologue updates on

Facebook – Jey sushil

Facebook-Meenakshi Jha

Facebook-MAG-Meenakshi Art gallery

Instagram- Jey Sushil

Twitter-@ Sushiljadu

Twitter-@Artologue

 

Kulli, nib work and anant Pash ....the snake and fish in sea.

Kulli, nib work and anant Pash ….the snake and fish in sea.

रंगोंं से पेंटिंग ही नहीं परिवार भी बनता है

सुबह सुबह पंखुड़ी की तस्वीर देखी तो कहीं बहुत कुछ याद आ गया. पंखुड़ी..कौन…अरे पंखुड़ी वही अपने गिरि बाबू की प्यारी सी बिटिया. पूर्णिया में मिला था तो गोद में आ गई थी. अब स्कूल जाने लगी है.

Preparing for the travel to south

Preparing for the travel to south

उसका नाम मुझे पता नहीं क्यों पाखी याद था. शायद परी मेरे ज़ेहन में होगी. परी ……..परी वही जिससे गोवा में मिला था. नौ महीने की प्यारी सी परी. जो कैमरा देखते ही होंठ सिकोड़ कर मुंह चिढ़ाती थी. वही परी जो बांगो पर थाप मारती थी. वही परी जो घुटनों के बल चल कर आपकी गोद में चढ़ जाती थी. वही परी जो हम दोनों से इतनी घुल मिल गई थी कि तीन दिन बाद जब हम लौटने लगे तो वो अपने मां पापा की गोद से मचल कर हमारे पास आना चाह रही थी.

Who will not love this Diva. of course its Pari.

Who will not love this Diva. of course its Pari.

वही परी जिसके साथ मैं घंटो खेलता रहा था. वही परी जिसने हम दोनों (मीनाक्षी और मुझे) को रवि और काशा के साथ बांध दिया था.

जब हम पहली बार रवि और काशा से गोवा में मिले थे पेंटिंग के सिलसिले में तो हम दाढ़ी वाले रवि से डर गए थे और हम दोनों ने अपना पूरा ध्यान परी पर केंद्रित कर दिया था. रवि को शायद ये बात बहुत अच्छी लगी कि परी हमसे कुछ ही घंटों में घुल मिल गई थी.

Kuggi is already a star modelling for a hotel chain

Kuggi is already a star modelling for a hotel chain

जुड़ने के लिए बच्चों की खिलखिलाहट से पवित्र और क्या होगा. परी की याद कल रात भी आ रही थी. और साथ ही याद आई कुग्गी भी.

कुग्गी मुंबई के वर्सोवा में मिली थी. वो पहले भी घर आकर अपने मन से पेंटिंग कर चुकी है. वर्सोवा में मिले तो उसे लाल हाथी बनाना था. जब बालकनी पर पेंटिंग बन गई तो कुग्गी ने कहा मुझे गोल्डन फूल बनाना है.

वो आज भी मीनाक्षी को गुरुजी बोलती है और मुझे जे…..मैं उसका दोस्त हूं जे.

Butu will keep talking to you till you..are exhausted

Butu will keep talking to you till you..are exhausted

टूटू बूटू गोवा में मिले थे. बुटू सबकी बोलती बंद कर देती है. उसी ने कहा था गर्ल फिश और कैटरपिलर फिश बनाने को. बना के दिखाया भी. स्कूल जाती है और किसी सवाल का जवाब न मिलने पर कहती है. आपको इतना भी नहीं पता. आपको स्कूल आना चाहिए मेरे साथ.

Taha and Sara in IIT Madrs

Taha and Sara in IIT Madrs

लेकिन सारा कुछ नहीं कहती. वो भी आठ नौ महीने की है. थोड़ी शांत है. अपने मां की गोद से कम उतरती है लेकिन कुछ ही घंटों में हमारी गोद में आने लगी थी. शायद अपने बड़े भाई से डरती है जो नर्सरी में पढ़ता है. नाम है ताहा. ताहा मियां छोटे बछड़े की तरह अपने बाप के चक्कर काटते हैं दिन भर और सवाल पूछने पर कहते हैं- चाचू खेलो मेरे साथ.

Amrit trying his hands on the painting

Amrit trying his hands on the painting

सारे बच्चे याद आ रहे हैं अमृत सातवीं क्लास में हैं. इतनी जल्दी जल्दी अंग्रेज़ी बोलता है कि समझ से परे. हमने रोका- बॉस थोड़ा स्लो. हाथ उचका कर बोला- ओकेज़. मैंने कहा क्या पेंटिंग चाहिए. बोला – आई वांटेड एन ईगल बट नाउ आई सॉ योर पेंटिंग्स सो फिश वुड भी बेटर. बहुत मैच्योर है लड़का. अच्छा कीबोर्ड बजाता है और शांत रहता है.

Zara loves bird watching

Zara loves bird watching

हां कीबोर्ड तो ज़ारा भी बजाती है. ज़ारा वायलिन भी बजाती है. वो दस साल की है. दुबली पतली ज़ारा के बारे में उसके बड़े भाई फिरोज ने बताया था कि वो जल्दी घुलती मिलती नहीं है लेकिन रंगो का कमाल था. दूसरे ही दिन ज़ारा ने कहा. सुशील अन्ना- मीनाक्षी अक्का मैं आपको ब्लू स्टोन फैक्ट्री दिखाने ले जाऊंगी.

फिर हम चार पांच बच्चे निकल पड़े साइकिल से ब्लू स्टोन फैक्ट्री देखने. होसूर में ज़ारा हमारी सबसे अच्छी दोस्त. उसे बर्ड वाचिंग पसंद है. मेरे पास एक दूरबीन थी जो मैं इस्तेमाल नहीं करता था. पता नहीं क्यों साथ ले गया था. मुझे लगा ज़ारा के लिए इससे बेहतर तोहफा नहीं हो सकता.

ज़ारा ने झिझकते हुए लिया और मुस्कुराई. उस मुस्कुराहट में एक बात छिपी थी कि आप दोनों मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं. ये छोटे छोटे रिश्ते आज बहुत याद आ रहे हैं. ज़ारा, अमृत, परी, सारा, ताहा, कुग्गी आज सब बहुत याद आ रहे हैं.

परी पिछले नौ महीनों में तीन बार मिली. रवि अपने काम से जब भी दिल्ली आया तो परी को लेता आया. कल ज़ारा आने वाली है हमसे मिलने.

रंगों से सिर्फ पेंटिंग नहीं बनती. परिवार भी बनता है.

(2014 फरवरी में पुणे से चेन्नई की यात्रा के दौरान जिन बच्चों से मिला था उन्हीं को याद करते हुए)

Helping them Dream…

They really don't speak much.

They really don’t speak much. PHOTO-VIKAS KUMAR

“What is your name?”

They looked up at their teacher seeking their tacit approval and then said meekly, “Balbir”.

This was not the case with just one kid at the school run by NIV called NIV Vidya Mandir, but nearly all the 200 kids who were present there.

These students were kids of guards, gardeners, drivers, labours and construction workers. They were not shy but scared of speaking something wrong in front of us; Mee and Jey and our photographer friends Vikas.

Jey tried his funny ways and hairs to incite kids to speak out

Jey tried his funny ways and hairs to incite kids to speak out PHOTO -VIKAS KUMAR

It took us sometime to connect to them, helping them overcome their fear of giving unwanted/ inappropriate reply of our questions and their inhibitions about voicing their true choices.

In reply to our question about what they love doing the most, many said ‘studying’ while others remained silent.

It is difficult to make these kids understand that there are several opportunities waiting for them to be embraced even when their parents don’t have much money to live a secured life. But we had colours and smiles. I shared with them that I wanted to be a mermaid because I love swimming. They smiled.

Then Meenakshi took over with kids and..

Then Meenakshi took over with kids and.. PHOTO-VIKAS KUMAR

Then Jey started talking about how he always wanted to be a house fly, so that he could fly in and out of his house without any body’s permission. They all laughed loud. That was our first achievement.

Soon we were talking candidly. No later I started drawing symbolic human figures in different positions and with different props like stethoscope, astronaut suit, diving dress, flowers and cycle.

and then flow the paintings by kids

and then flow the paintings by kids PHOTO- VIKAS KUMAR

With each new sketch the kids cheered and shouted the name of objects I was drawing. It was just to bring them in to the mood of painting their dreams on the wall of their school: their second home.

A nano car, a house, people sleeping, they painted what they wanted

A nano car, a house, people sleeping, they painted what they wanted PHOTO-VIKAS KUMAR

Students drew a man driving Nano car, one fanning her mother, a figure sleeping in a hut, one flying in sky, one with flowers in both the hands and all that they could think of. The near 40 degree temperature did not deter them from living their dream of their bright colourful future.

we spent around 4 hours with them to create things they like

we spent around 4 hours with them to create things they like PHOTO-VIKAS KUMAR

and here we bid adieu

Kids gave us a standing bye bye

Kids gave us a standing bye bye PHOTO-VIKAS KUMAR

हुसेन की कहानी, मक़बूल की ज़बानी

Hussain Bookहुसेन के बारे में बहुतों ने बहुत कुछ लिखा होगा लेकिन हुसेन के बारे में जो मकबूल ने लिखा है उसका कोई सानी नहीं है. मकबूल …कौन…अरे वही मकबूल फिदा हुसैन का मकबूल. जी हां ये हुसेन ही कर सकता था कि अपनी जीवनी अपनी ज़ुबानी लिखे जिसमें मकबूल बताए एमएफ हुसैन की कहानी. आज उनके जन्मदिन पर एमएफ हुसेन की कहानी अपनी ज़ुबानी  के कुछ हिस्से आप लोगों के लिए.

Hussain's sketches

दादा की ऊंगली
पकड़े एक लड़का
मां दे गई नाम मक़बूल
और
बने फ़िरते हैं
एम.एफ. हुसेन

 

कुछ वक्त गुज़रा, एक रात फ़िदा कहीं काम की वजह से घर देर से लौटा. दाएं कमरे की कुंडी खटखटाई. अंदर से ज़ैनबबीबी ने पूछा- ”कौन है रे बा?” बाहर फ़िदा ने जवाब दिया- ” तेरा मर्द हूं रे मा.” यह एक दूसरे के ‘बा’ और ‘मा’ की तकरार में टपक पड़े मक़बूल, ब्याह के ग्यारहवें महीने, शायद ग्यारहवीं शरीफ़ का दिन होगा, बस पैदा हो गए.

Hussain's horses

अच्छन मियां उबलती हुई चाय मिट्टी के सकोरे में उंडेलते हुए हमारे दादा से कहने लगे- ”भई, अब्दुल, आजकल नालबन्दी का काम कुछ ठंडा चल रहा है. रेज़ीडेन्ट साहब के नाज़िर को ही ले लीजिए, कहां गई उन की वह बग्घियां, दर्जन घोड़े, अब तो सुना है दो दो मोटर गाड़ियां हैं.” अब्दुल ने जवाब में कहा- ”हां, अब यह गोरे लोग न मालूम इस देश में कितनी धूल उड़ाएंगे.”

Hussain's parents in sketch

बाप की शादी में बेटा दीवाना
इंजन ने कूक लगाई और सिद्धपुर प्लेटफ़ार्म से डोली बना डिब्बा इंदौर के लिए चल पड़ा. लड़का अब खिड़की के बाहर दौड़ते चांद, सूरज, गांव, बयाबान नहीं देख रहा. उसकी टिकटिकी दुल्हन के ख़ूबसूरत गोरे गोरे हाथों और सुर्ख़ लंहगे की गोट से झांकते पैरों पर लगी है. बड़ी बड़ी आंखें नींद से भरे करोटे, बोझल, झुका चेहरा, दादा की गोद में सामने बैठा लड़का, इतने करीब से और इतनी देर तक उसने किसी औरत को कभी नहीं देखा.

Hussain and horse

अब सोचा जाए तो ताज्जुब होता है कि उस ज़माने के इंदौर जैसे कपड़ा मिल माहौल में, काज़ी और मौलवियों के पड़ोस में एक बाप कैसे अपने बेटे को आर्ट की लाइन अख़्तियार करने पर राज़ी हो गया. जबकि यह आर्ट का शगुल राज़े महाराज़े और अमीरों की अय्याश दीवारों का सिर्फ लटकन बना रहा आधी सदी और ज़रुरत थी कि आर्ट महलों से उतरकर कारखानों तक पहुंचे.
मकबूल के अब्बा की रोशनख्याली न जाने कैसे पचास साल की दूरी नज़रअंदाज़ कर गई और बेन्द्रे के मशवरे पर उसने अपने बेटे की तमाम रिवायती बंदिशों को तोड़ फेंका और कहा-”बेटा जाओ, और ज़िंदगी को रंगों से भर दो.”

hussain and manakeshwar

मक़बूल का ज़िगरी दोस्त मानकेश्वर, इंदौर स्कूल में साथ पढ़े. उसे भी पेंटिंग का शौक मगर गीता और पुराण ज़बान पर. अक्सर दोनों साथ रामलीला का नाटक देखने जाया करते. मक़बूल के नाना सिद्धपुर गुज़रात में मस्ज़िद के पेश इमाम, इसी वजह से मक़बूल को छह साल की उम्र से ही कुरान की आयतें ज़बानी याद. अनेक दीन और धर्म की बातें सुनी और पढ़ीं. मानकेश्वर की दोस्ती और पचास बरस की उमर तक का साथ, मक़बूल पर रामायण और महाभारत के चरित्रों का गहरा असर पड़ा जिसे बरसों बाद एम.एफ. हुसेन ने, उन्हें आजकल की ज़बान में रंग रेखा और रुप देकर कैनवास पर उतारा.

Hussain's Hanuman
लोहियाजी ने लड़के की पीठ थपकी जैसे शाबासी दी हो और विषय बदलते हुए पूछा- ‘यह जो तुम बिड़ला और टाटा के ड्राईंगरुम में लटकने वाली तस्वीरों में घिरे हो, ज़रा बाहर निकलो. रामायण को पेंट करो. इस देश की सदियों पुरानी दिलचस्प कहानी है. गांव गांव गूंजता गीत है, संगीत है और फिर इन तस्वीरों को गांव गांव ले जाओ. शहर के बंद कमरे जिन्हें आर्ट गैलरी कहा जाता है, लोग वहां सिर्फ पतलून की जेबों में हाथ डाले खड़े रहते हैं. गांव वालों की तरह तस्वीरों के रंग में घुलमिल कर नाचने गाने नहीं लगते.”
लोहियाजी की यह बात लड़के को तीर की तरह चुभी और चुभन बरसों रही. आखिर लोहिया जी की मौत के फ़ौरन बाद उनकी याद में रंग भरे और कलम लेकर बदरी विशाल की मोती भवन को तकरीबन डेढ़ सौ रामायण पेंटिंग से भर दिया. दस साल लगे. कोई दाम नहीं मांगा. सिर्फ लोहियाजी की ज़बान से निकले शब्दों का मान रखा.

Hussain's Marriage
निकाह से एक घंटे पहले मक़बूल सिनेमा का बैनर पेंट कर रहा था. इत्तेफाक देखिए कि फिल्म का नाम ‘लगन ‘ न्यू थियेटर की फिल्म जो दूसरे दिन मिनर्वा थिएटर में रिलीज़ होने वाली थी. मशहूर अभिनेत्री काननबाला का चेहरा दस फीट लंबे चौड़े बैनर पर उतार रहा था. आधी खुली नीली आंखें, गुलाबी गाल, पीली पेशानी और अधखुले होंठों पर मचलता नगमा. उस पर मक़बूल के ब्रश का तूफानी नृत्य.

Fazila and Hussain's six kids

जब भी हुसेन के ब्रश से कोई अहम पेंटिंग बनी तो यह ज़रुर हुआ कि फ़ज़ीला ने जच्चाखाने जाकर, हुसेन चाहे जहां भी हों, उन्हें तार से एक नए बच्चे के पैदा होने का ऐलान किया. इस तरह से हुसेन सिर्फ़ छह पेंटिंग करने का हक़दार है. बाकी ज़िंदगी में जितनी पेंटिंग की उनका जमादार.

Hussain's sketch of Rashida sidiqui
”मक़बूल अब एम. एफ. बना दिया गया है और बेशक मैं खुशकिस्मत हूं कि मेरे अंदर एक छोटा सा मक़बूल खेल रहा है.” वह बोली ” चलो अच्छा हुआ आपकी हिलमैन कार का ब्रेक डाउन ठीक मुकाम पर हुआ और कुछ देर ठहरने का मौका मिला.” एम.एफ. ने कहा, ”हां पहुंचा तो ठीक मुकाम पर मगर वह दिलचस्प बातें सुन नहीं पाया जो तुम्हारे और तस्वीरों के दरम्यान हुईं.”

वह बोली ”यह सुनकर आप खुश होंगे कि इन बातों को अक्सर मैं लिख लिया करती जो आज एक किताब की हैसियत में आपको पेश करती हूं. किताब का नाम ‘In conversation with hussain paintings.’ किताब आपके सामने है. एम.एफ. हुसेन के सिवा इसका सही हकदार कौन हो सकता है. शायद ये किताब आपके आने का इंतज़ार कर रही थी. इसी को लिए गोमती किनारे बैठी रही. इसी को लिए जमुना किनारे पहुंची और आज आप पहुंचे हैं. पहली किताब आपकी नज़र.” एम.एफ़ ने पूछा ”मगर ये नज़राना कौन पेश कर रहा है?” किताब पर लिखा है ”पढ़ लीजिए.”

एम.एफ़ ”ओह अच्छा, आपका नाम राश्दा सिद्दीकी है.”

( इस ब्लॉग में लगी सारी तस्वीरें और लिखावट हुसैन की पुस्तक ” एम.एफ. हुसेन की कहानी अपनी ज़ुबानी” से ली गई हैं. पेंटिंग्स भी हुसेन की ही हैं इसी पुस्तक से. वाणी प्रकाशन से छपी इस पुस्तक का लेआउट और हिंदी कैलिग्राफी राश्दा सिद्दीकी की है. यह पुस्तक 17 सितंबर 2002 में पहली बार प्रकाशित हुई थी.)

Rainbow in Mountains

The Artologue journey reached mountains this time in the scenic land of Srinagar in Uttarakhand. Yes there is a Srinagar in Uttarakhand as well. We were invited by the Rainbow public school to work with their students.

The owners of the school were surprised about how we fund our endeavor and we explained that we love to get paid but we don’t fix any charges. You pay whatever you want to pay if you liked us and our work.

So having said that, this time we will take you on a visual journey of photographs rather than words. so here comes the Rainbow journey. Please do read the captions and if you want to invite us mail us on meejha@gmail.com

IMG_2786

Selected 52 pupils from the school who had interest in art. We asked what they wanted to become and half of the class raised hands to become either doctor or engineer. Then we explained about us and asked ” Tell us what is your dream profession, leave the parents desires and do not think of obstacles.” Surprisingly we got two Astronauts, one fashion designer, two singers, three cricketers, five army men, a forest officer,  one doctor and two engineers. Who says kids don’t dream.

IMG_2797

We asked each of them to draw a face and design it as they wish. The girl who wanted to be a doctor drew the most intricate pattern on the face she made.

IMG_2804We got a corridor to paint. Colors came out. The artist sat down with the teachers and the principal (in saree) to guide students on how to paint on the wall. They thought that workshop will end with the pencil-paper sketches but wall was the real fun, they realized later.

IMG_2812

We found this one quite intriguing. Two boys decided to work together while the rest  of then were working individually. In their drawing a pair of peacocks formed a face. This could stand for their friendship as well. The whole design was quite innovative. Kids can come up with anything. These two guys impressed us in the beginning.

IMG_2820

As usual girls were meticulous in their work. They drew the outlines with chalks and then used colors. later they removed the chalk lines with clothes. quite beautiful. Isn’t it?

IMG_2828

More faces came alive with time. Boys drew characters from video games but girls made faces with their imagination. They made beauties. Boys made beasts. Understandable.

IMG_2883

And Now the turn of teachers to fulfill their desire to paint. They worked on the sketches made by students to make them more beautiful.

IMG_2895

OH SO LOVELY……..Iam out of captions for this one.

IMG_2899

Second day – working with kinder garten kids..What do you think we are going to do with leaves and flowers………we will make colors out of it.

collage1

WOOOO-HOO- look what we have made. Organic paintings……ha ha ha….all with organic colors.

IMG_2779

And now the time for some Kuccchhhhi-koooo…love….oh that’s kid language….Jey was mobbed by Nursery kids and he is loving it.

 

 

जे रंगों की बात है…

आर्टोलॉग की यात्रा के दौरान फेसबुक पर कई मित्र बने हैं जिनसे हम कभी नहीं मिले. फेसबुक के इनबॉक्स में बातें होती रहींं. वो पूछते रहे. हम बताते रहे अपने बारे में. ऐसा ही एक लड़का है विकास त्रिवेदी..वो कभी कभी कुछ पूछ लेता था और हमेशा कहता- आप लोग बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. ये छोटी छोटी हौसला अफज़ाई बड़े काम की होती है. हम जब कश्मीर से लौटे तो इनबॉक्स में ये पड़ा था जो विकास ने लिख भेजा था..ये कहते हुए कि मेरा मन किया तो भेज दिया.. मैंने पढ़ा तो अच्छा लगा. आप सबसे शेयर कर रहा हूं विकास का ये लिखा हुआ.

collage

झा नहीं जे. जे रंगों की बात है….

रंग. मछली. सुशील-मीनाक्षी. रंग-बिरंगी मछली.

कुछ दीवारें…..दीवारों पर कुछ न समझ में आनेवाली पेंटिग्स, इन शॉर्ट मॉर्डन आर्ट, जिसकी समझ मुझे आज भी नहीं है. पर मुझे मछली और रंग समझ आते हैं तो इनकी डाली कुछ तस्वीरें समझ आ रही थीं.

Artolouge, मीनाक्षी और इस एक जैसी हाइट वाली कपल की तस्वीरें. अमूमन एफबी पर जो फोटू और पोस्ट मुझे सबसे ज्यादा अपने पास टिकाकर रखती हैं वो हैं प्रेमी जोड़े. और वो जोड़े जित्ते ज्यादा सावन देखे हुए होते हैं मेरी दिलचस्पी उन दोनों में उत्ती ही बढ़ती है.

किसी आर्ट गैलरी में एक-दूसरे को निहारते ये दो तोते मुझे लुभा गए. ज़्यादा घुसा तो आर्टोलॉग मिला…और घुसा तो रंग मिले..खूब सारे रंग..रंगों के साथ कुछ शब्द भी मिले…काले शब्द,जो कुछ कह रहे थे, ये शब्द और रंग एक दूसरे की बाहों में बाहें डाले अपने किस्से सुना रहे थे.

collage

प्यारे किस्से. मैंने यहां से आर्टोलॉग को पहचाना.

जेएनयू में ट्री (The Tree of life in JNU) बनाने वाले प्रोग्राम ने मुझे खींच लिया..लगा कि यार इन दोनों को किसी दिन मैग्सेसे अवॉर्ड मिलना चाहिए. कहा  भी था जे से.

इनबॉक्स-अलादीन का चिराग. जो पूछो..जो कहो.. जो गरियाओ..जो ढकेलो..जो मतलब…जो.

जे जवाब देंगे.

एक लंबी पोस्ट डाली समझ नहीं आई, प्रिंट लें या न लें. मैसेज चिपका दिया. इत्ती तेजी से किसी बाबा सीनियर ने आजतक रिप्लाई नहीं किया था. बाबा ने रिप्लाई  भी किया और हाल चाल लिया. अच्छा लगा था. पहली बात थी वो हमारी.

इसके बाद कई बार बात हुई थी. जे बाबा सीनियर श्रेणी के पहले ऐसे योद्धा थे जिनसे कुछ लिखकर कहने से मैं कभी डरा नहीं.

ए ट्रिप टू साउथ इंडिया विद हरी बुलैट एंड हिज़ फ्रेंड मीनाक्षी. मटरगश्ती कोई इस उम्र में आकर भी कर सकता है, ये हमने वाया फेसबुक जे की जर्नी में देखा. दावे से कह सकता हूं कि बहुतों की उस ट्रिप में जली होगी कि ये लोग इत्ते खुश कैसे हो सकते हैं,रह लेते हैं. हमई बात  अलग है हमें तो प्रेमी जोड़े ही सुकून पहुंचाते हैं.

रंग सिर्फ छुए नहीं जाते हैं देखकर चखे भी जाते हैं इन दोनों का प्यार और हरकतें (कलाबाजी) मुझ जैसे कई लोगों को रंग चखा रहे थे.

मुझे पेंटिंग बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है, पर देखने में है. चाहता हूं कि आर्टोलॉग फलता-फूलता रहे. चलता रहे. रंग की डिबिया बिखरती रहे. कुछ कोरा नहीं बचना चाहिए. कुछ भी नहीं क्योंकि रंग बेहद प्यारे लगते हैं मुझे.

IMG_0362

रंग जैसे रहना जे-मीनाक्षी. रंग जो जहां जाते हैं सबको अपने जैसा कर लेते हैं. खुशियों के रंगों को भी बिखेरते रहना. एक ख्वाहिश है. ख्वाहिश पढ़कर मुझे चाची-दादी-नानी ना समझ लेना. विकास ही समझना. ख्वाहिश है कि मैं वो दिन देखना चाहता हूं जब आप दोनों की बगिया में एक तीसरा जे आएगा.

मीनाक्षी जे. सुशील जे और क्यूटी पाई जे.

मैं इंतज़ार कर रहा हूं उस दिन का जब वो आएगा/ आएगी..और अपने नन्हे हाथों से मछलियों को बिगाड़ेगा, जब वो सुशील की दाढ़ी खींचेगा और मीनाक्षी उसकी फोटू खीचेंगी.

झोले में रंग की डिबिया बढ़ेंगी तो खुशियां भी बढ़ेंगी इसीलिए ये ख्वाहिश उपजी है. क्यूटी पाई जे के आने तक आप दोनों अपनी रंगों को डिबिया लिए भटकते रहो. तुम्हारा भटकना लोगों को रंग रहा है. उनके कोरेपन को दूर कर रहा है, खुशियां ला रहा है.

तो प्लीज़ आर्टोलॉग कैरी आन….रंग दो दुनिया. रंगना ऐसे कि जब अंतरिक्ष से नासा वाले देखें तो उन्हें सिर्फ रंग दिखे. सिर्फ रंग.

विद लव विकास.

Art from the Heart : Artologue in FEMINA

We never thought that the journey of Artologue will be covered by newspapers but it did. After The Hindu : Art for People’s Sake, It was the well known magazine FEMINA which did a five page photo essay on our Artologue journey.

These kind of coverage affirms our belief that Art is for all. Everyone can understand and they can be creative in their very own way. That was the motto of Artologue since beginning.

In last two years Artologue has traveled from the concept to execution. we traveled around Six thousand kilometers and made new friends. Though we never asked for money but some families paid us. The money helps us in financing the next journey so we feel good when get paid.

Ha Ha Ha….

Lets not bother you much with money talk. Here are the scanned coverage of the Femina magazine. If you want to read it in print then you have to buy Femina of 6 August.

PG-2

The kodak moment was in Pune after completing the Buddha with his Eight signs. As usual Mohanan Uncle said something which we couldn’t resist laughing out. Read the Pune blog here.

PG-3

This was the route we took in February 2014 to cover around 2200 km. Painted at six places and met eight families. Stayed with them and spread colors with them.


PG-4

GOA was a divine connection with Pari. Jey still wants to write a whole blog on Pari only. Since the trip we have met this family twice in last six months. Want to how we met?  then Click here to know.


PG-6

HOSUR was our biggest experiment on the level of scale. We had never painted with 200 kids but the outcome was inspirational. want to know more ……???   here is the blog from Hosur.

PG-5Before embarking on the journey we painted in JNU with kids of Construction laborers. The last picture is also from a family in Hosur (Femina got it wrong as Kundapur). The 80 year old grandmother was most excited to paint her favourite goat,  anandvalli. here is the Anandvalli experience from the pen of Sherly Ann George

कश्मीर तो खुद ही एक पेंटिंग है

artologue1अभी हम श्रीनगर पहुंचे नहीं थे. शहर के बाहर पहली रेड लाइट पर रुके थे. बगल में रुकी स्कूटी, मोटरसाइकिल वाले कभी हमें देखते…कभी हरी बुलेट को. बायीं तरफ स्कूटी पर बैठा आदमी मुस्कुरा रहा था. हम भी मुस्कुरा दिए. बत्ती हरी हुई और हम बढ़े.

स्कूटी पीछे पीछे आई…..कहां से आए हो दिल्ली से..हमने कहा हां….बुलेट पर ही. …हां..मस्त लाइफ है यार…

ऐसे ही घूमते हो…हां….मीनाक्षी पेंटिंग करती है और हम लोगों के घरों में रुकते हैं….अरे वाह तुम लोग तो बढ़िया आदमी हो..

बातें होते होते दसेक मिनट गुज़र गए. फिर स्कूटी वाले ने कहा- आप प्लीज़ मेरे साथ एक कॉफी पीजिए.

हमने हामी भरी क्योंकि शहर में आ चुके थे. पास के रेस्तरां में गए तो कॉफी के बदले उन्होंने लंच ऑर्डर कर दिया.

नाम नज़ीर मलिक…काम-कंस्ट्रक्शन का….हमने अपने बारे में बताया. बहुत खुश हुए बोले- मुझे आपके जैसे लोग बहुत पसंद हैं. एकदम बढ़िया लाइफ स्टाइल है. मेरा घर बन रहा है. वर्ना पेंटिंग भी करवाता. आपसे फिर मिलूंगा मैं.

खाते खाते बातें होने लगी तो बोले- मैं भी घूमना चाहता हूं लेकिन……वो रुक गए.

मैंने पूछा बोलिए क्या कहना चाहते हैं…..बोले- जब हम लोग बाहर जाते हैं और जैसे ही किसी को बताते हैं कि कश्मीर से हैं तो ……….उनको शक होता है कि हम लोग भी आतंकवादी न हों.

मैं चुप रहा……हामी भरी. मैं जानता था ये सच है. हम सभी लोगों के दिमाग में कश्मीर से आए किसी व्यक्ति की पहली छवि उग्रवादी की ही उभरती है.
वो जो राह चलते लोगों को बुलाकर लंच करवा देते हैं.. है न अजीब सी बात
………………………………….. ……………………………… ………………..

artologue2

हम जिनके यहां रुके थे उनसे हम चार साल पहले मिले थे. उनके पास गाड़ी है जो हमने किराए पर ली थी. ये 2010 की बात है. तब हमारी शादी हुई ही थी. हम हाउसबोट में रुके थे. तब भी वो हमें अपने घर ले गए थे और खूब खातिर की थी.

वो तब से कहते अब कभी भी श्रीनगर आओ तो हमारे यहां रुकना.

इस बार हम उनके यहां रुके. उनके बच्चे वसीम और इरम बड़े हो गए हैं…वसीम बारहवीं में है और इरम नवीं में.

दोनों को हनी सिंह के गाने पसंद हैं और वसीम बड़ा होकर सिंगर बनना चाहता है. वो गाता भी अच्छा है.

घाटी में भारतीय सीरियल्स खूब देखे जाते हैं. सास बहू वाले.

वसीम ने ही श्रीनगर घुमाया तीन चार दिन जब तक रहे.

वही खाया जो वो खाते…सुख दुख की बातें करते लेकिन जब पेंटिंग की बात आई तो उन्होंने मना कर दिया.
बोले- हमारा घर सफेद है और मुझे ऐसा ही अच्छा लगता है.

बच्चे शायद चाहते थे कि हम कुछ पेंट करें.

शायद…….कश्मीर में लोग आपको अपने मकानों में आने देते हैं .. घरों में नहीं…..वो आपको दिमाग में जगह देते हैं …दिलों में नहीं…ये रिश्ता कुछ कुछ वैसा ही है जैसा कश्मीर का भारत के साथ है……वो एक ही समय में भारत की आलोचना भी करते हैं लेकिन भारतीय टूरिस्टों के साथ उनके जैसा प्रेमपूर्ण बर्ताव शायद ही कहीं और किया जाता हो.
………………………………… ………………………………………… ………………………….

artologue3

कश्मीर में पेंटिंग के लिए परिवार मिलने में शुरु से ही दिक्कत हो रही थी. कई दोस्तों ने अपने कुछ और दोस्तों का नंबर दिया. उनसे बात भी हुई थी.

ये दिल्ली बंगलौर रहने वाले कश्मीरी थे. उन्होंने आगाह किया था कि कश्मीर में लोग उतने खुले नहीं हैं जितना आप समझ रहे हैं.

मुझे उम्मीद थी कि आशंकाओं के बावजूद पेंटिंग हो जाएगी. एक कश्मीरी ब्राह्ण का परिवार मिला भी जो द हिंदू में हमारे बारे में रिपोर्ट पढ़ चुका था.

वो निशात बाग के पास रहते हैं लेकिन जिस दिन हम श्रीनगर पहुंचे उसी दिन उनके दिल्ली के कारखाने में कोई दिक्कत आ गई.
उन्हें वापस आना पड़ा और हमारा काम रुक गया.

कुल मिलाकर पेंटिंग नहीं होनी थी कश्मीर में नहीं हुई…लेकिन ये भी अच्छा हुआ.

कश्मीर खुद ही एक पेंटिंग है जिसे हम मिस नहीं करना चाहते थे.

हमने सारी शामें डल झील पर बैठ कर बिताईं. शिकारे में घूमते रहे.परी महल, दाछीगाम, हरवन पार्क, शालीमार-निशात, हाउसबोट, उमर अब्दुल्ला का गोल्फ कोर्स …सब देख डाला.

हम खुश थे..पेंटिंग की आपाधापी में ये छूट जाता. कश्मीर में पेंटिंग नहीं हुई लेकिन कश्मीर नाम की पेंटिंग हम देख आए.

That Face on the wall smiles…

The first sketchh

The first sketchh

‘‘I wanted to marry the most beautiful women and I did marry the most beautiful one in the college.’’

Sudesh Gupta loves beauty and that was his only condition for marriage. It was 1978 when background of the family mattered the most in the matters of marriage. In those times marriages were said to be the beginning of relationship between two families than two individuals.

But for Sudesh only beauty mattered. Off course his wife is one of the most good looking women we came across in the area. She still radiates her happy smiles and watches Sudesh with a lovely gaze.

Sudesh Uncle and Sareshta aunty were our host in Udhampur, two really beautiful souls who help each other in all the domestic work and gelled with each other like friends. Sudesh Uncle is a lawyer who deals mostly in matrimonial cases and loves old songs.

He sings and oten whistles songs of Mukesh and Rafi. In past few years he has developed an interest in travelling.

We reached his home on 26th June and it was Uncle’s birthday. We thought the painting would be a gift to him. He knew about our painting project and he wanted to see meenakshi’s paintings.

He picked up a very fine painting from Meenakshi’s work and asked, ‘’Is it a women’s face?’’ It was indeed. He appreciated the painting for some time. He saw other paintings and then proposed a very different idea.

The work in progress

The work in progress

He wanted us to paint the story of ‘’Yudhishthira and his faithful dog’’ from Mahabharata.

The story is that when Yudhishthira reached heaven his faithful dog, who never left his side, accompanied him to heaven. But the Dhramaraja barred the dog from entering the heaven. Yudhishthira refuses to enter without his dog. Then Dharamaraj revealed that it was Dharmaraja himself in the form of dog and he was testing Yudhishthira’s dharma toward his faithful dog.

The idea was amazing and Meenakshi started working on it. She made some sketches which we liked. Sudesh Uncle also liked them but just before the painting was to start on the wall, he changed his mind.

I think he went with his intuition. He wanted the face of the women on his wall from the face series. The love for the beauty again revealed.

Meenakshi started working on the Face. It was a complicated painting with very fine detailing so no one could join Meenakshi in her work. Sushil suggested to use the corner of the walls that worked wonder for the Face.

The home we painted...and the family we lived with

The home we painted…and the family we lived with

While Meenakshi painted the wall, Jey was always there for all possible help. Uncle, every now and then, came in to observe the progress and frequently inquired about the designs.

The corner gave a mysterious look to the Face. If you see the Face from one side the eye and part of the lips on the other side will look bigger and vice versa. If someone sits below her level, she smiles. If you stand, she stares and if one raises above her level, she frowns. The face looks in balance only if you see it from the front side of the corner.

It was interesting.

In several chit-chat sessions Sudesh Uncle told us about his politically active father and how former Prime minister Atal Bihari Vajpayee and Lal Krishna Advani had visited his father in their ancestral house.

He is happy with his lawyer’s work, his old songs and new found love for travel. They travel twice in a year. They have been on a European and Singapore tour and visited many places in India.

After the painting was complete, he looked happy. We didn’t ask for his reaction. They giggled and smiled for the ceremonious photos we take after finishing each painting.

We felt that we  gave some beauty to the Lover of Beauty.

The customary one...artist with the family

The customary one…artist with the family

”I was beaten up for painting”

IMG_1943Thirteen year old Anil has big eyes and they are searching for something all the time. It sparked when he saw us opening the colour bag. “Aaap painting kartey ho?” (you guys paint?) he asked with glitters in his eyes.

He was asked by the family we were staying with, to assist us in the process of painting. For next many hours, Anil didn’t move an inch from there.

Helping us in moving the furniture, making the colors, lightening the bulb and ultimately he joined us in painting on the wall. Anil, in just a few minutes, made a relation with us through his interest in drawing.

Our stay in Udhampur was facilitated and mediated by a family member. He gave us the contact of Sindhuja.

Sindhuja who has worked with media for some years and now is a freelancer with United Nations and many other organizations, read our blogs and invited us to paint in her mother’s school.

collage2

She wanted us to make something in the little angel’s school run by her family. Due to summer vacation, only the caretakers lived there.

The day we were suppose to paint, Meenakshi got severe dehydration and was almost bedridden. With all the sugar-salt syrup she recovered and decided to paint next day in the evening.

Sindhuja also loves to paint but with two babies ( a three year old and another eight months old) it was difficult for her to focus on art.

Since she couldn’t join us, she asked Anil and his brother to help us by providing water, lights etc.

We had no idea that Anil or his brother might be interested in painting but the colour bag did the trick for us.

Sindhuja and her family wanted us to paint something which has a social message and what else could have been better than Gandhi’s three monkey…..with a twist…

Gandhi’s fishes depicting see no evil, speak no evil and listen no evil.

Meenakshi spotted Anil’s interest in art and asked him if he would like to paint. He was reluctant, actually scared. But once Meenakshi made the outline and gave him a brush, he jumped on to it.

We watched him silently working on his fish. His hands were steady. He was learning with every stroke. Seeing and asking Meenakshi about colours and patterns, he flared.

collage1

In the meantime he showed us his few paintings which he had done in his school but the heartbreaker came after a while.

When he felt comfortable enough, he apprised us that, ‘’you asked me to paint but in my village I used to get beaten up by my teachers whenever I painted.’’

Anil is glad that he is no more in that school and the government school he is studying appreciates his art.

After the painting finished, we clicked few pictures as we had to leave for Srinagar the next day. We promised Anil that on the way back to Delhi we will meet him and he promised that he will do some paintings for us.

After one week we met again and he complained- “you told me you will come on 26th and you came on 27th”. That was the love he must have felt for us. We saw his paintings and got the good news as well.

Sindhuja and her family has asked Anil to do some paintings in the other branch of the school in a distant village.

Anil was happy and so we were.

We cant measure what art gives us. The feeling can’t be explained. Anil doesn’t know about the big art market and money some artists make. He doesn’t know the politics of the big studios and the murky world of art politics.

He paints because he loves painting and that’s the prerequisite to become an artist. This is what we have understood in our little journey so far as artists and we are glad that we helped another one in continuing his interest in Art.

IMG_1969